[ वक्त ]

 

 मैं सोच ही रही थी
कि यह वक्त कैसे गुजारूं,
वक्त ने आहिस्ते सहला
के पिछला वक्त याद दिला दिया |

मैं सोच ही रही थी
कि यह वक्त कैसे गुजारूं,
वक्त ने फिर करवट
बदल बीते पल याद दिला दिया |

मैं सोच ही रही थी
कि यह वक्त कैसे गुजारूं,
वक्त ने हाथ पकड़
मुझे फिर ठहरा दिया |

मैं सोच ही रही थी
कि यह वक्त कैसे गुजारूं,
वक्त ने धड़कन तेज
कर मुझे फिर डरा दिया |

मैं सोच ही रही थी
कि यह वक्त कैसे गुजारूं,
वक्त में साथ छोड़
मुझे फिर रुला दिया |

        [  Waqt

 main soch hi rahi thi
 ki yeh waqt kaise gujaarun,
Waqt ne aahiste sehla
 Ke pichlaa waqt yaad dilaaya |

main soch hi rahi thi
ki yeh waqt kaise gujaarun,
Waqt ne phir karwaat
 Badal beete pal yaad dilaaya|            

main soch hi rahi thi
ki yeh waqt kaise gujaarun,
waqt ne haath pakad
mujhe phir thehara diya |

main soch hi rahi thi
ki yeh waqt kaise gujaarun,
Waqt ne dhadakan tej
 kar mujhe phir dara diya |

main soch hi rahi thi
 ki yah waqt kaise gujaarun,
Waqt ne saath chhod 
 mujhe phir rula diya | 

 

Advertisements

10 thoughts on “     [ वक्त ]

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s